मानसून में स्वस्थ रहने के लिए 10 कदम | Hindi Health Values

बरसात का मौसम बहुत सारी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं और मुंह में पानी ला देने वाले जंक फूड विकल्पों के साथ आया है। लेकिन एक चीज से हमें समझौता नहीं करना चाहिए, वह है हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता और स्वास्थ्य। एमबीबीएस और प्रमाणित पोषण विशेषज्ञ डॉ. रोहिणी पाटिल ने इस बरसात के मौसम में फिट रहने और अपनी प्रतिरक्षा और चयापचय को स्वस्थ रखने के लिए भोजन की आदतों पर अपनी अंतर्दृष्टि साझा की है:

1. जलयोजन: बरसात के मौसम में पर्याप्त मात्रा में पानी पीना जरूरी है। भले ही मौसम ठंडा है, फिर भी आपके शरीर को जलयोजन की आवश्यकता है। बरसात के मौसम में कभी-कभी अत्यधिक नमी हो सकती है, जिससे पसीना और तरल पदार्थ की हानि हो सकती है। उचित रूप से हाइड्रेटेड रहने और इष्टतम शारीरिक कार्यों को बनाए रखने के लिए दिन में कम से कम आठ गिलास पानी पीना सुनिश्चित करें।

2. गर्म पेय पदार्थ: बरसात के मौसम में, हर्बल चाय, सूप और अदरक युक्त पेय जैसे गर्म पेय पदार्थों का चयन करें। ये न केवल आपको गर्म और आरामदायक रखने में मदद करते हैं बल्कि अतिरिक्त स्वास्थ्य लाभ भी प्रदान करते हैं। हर्बल चाय, जैसे कैमोमाइल या हरी चाय, एंटीऑक्सिडेंट प्रदान कर सकती है और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा दे सकती है। सूप, विशेष रूप से सब्जी आधारित, पोषक तत्वों का उपभोग करने और आपके शरीर को पोषित रखने का एक शानदार तरीका प्रदान करते हैं।

3. मौसमी फल: बरसात के मौसम में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होने वाले विभिन्न प्रकार के मौसमी फलों का आनंद लें। सेब, नाशपाती, अनार और संतरे विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। ये फल आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने, संक्रमण से लड़ने और समग्र स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करते हैं। इन्हें अपने आहार में शामिल करने से आपके भोजन में प्राकृतिक मिठास और स्वाद भी आ सकता है।

4. विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थ: अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए अपने आहार में विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करें। नींबू, संतरे और अंगूर जैसे खट्टे फल विटामिन सी के उत्कृष्ट स्रोत हैं। कीवी, बेल मिर्च और ब्रोकोली भी इस आवश्यक पोषक तत्व से भरपूर हैं। विटामिन सी श्वेत रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में मदद करता है, जो संक्रमण से लड़ने और आपके शरीर की सुरक्षा को बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण हैं।

5. हल्का और संतुलित भोजन: हल्का और संतुलित भोजन चुनें जिसमें साबुत अनाज, लीन प्रोटीन और सब्जियों का संयोजन शामिल हो। यह सुनिश्चित करता है कि आपको भारीपन या सुस्ती महसूस किए बिना पोषक तत्वों की एक विस्तृत श्रृंखला प्राप्त हो। ब्राउन राइस, क्विनोआ और जई जैसे साबुत अनाज फाइबर और निरंतर ऊर्जा प्रदान करते हैं। चिकन, मछली और टोफू जैसे लीन प्रोटीन मांसपेशियों की मरम्मत और विकास में सहायता करते हैं। सब्जियाँ आपके समग्र स्वास्थ्य का समर्थन करने के लिए आवश्यक विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट प्रदान करती हैं।

6. प्रोबायोटिक्स: अपने आहार में प्रोबायोटिक युक्त खाद्य पदार्थ, जैसे दही, केफिर और किण्वित सब्जियां शामिल करें। प्रोबायोटिक्स स्वस्थ आंत माइक्रोबायोम का समर्थन करने में मदद करते हैं, जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वे पाचन तंत्र में लाभकारी बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देते हैं, पोषक तत्वों के अवशोषण को बढ़ाते हैं और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं के जोखिम को कम करते हैं। एक स्वस्थ आंत बेहतर प्रतिरक्षा और समग्र कल्याण में योगदान देती है।

यह भी पढ़ें: दही के 10 अद्भुत स्वास्थ्य लाभ

7. लहसुन और प्याज: अपने भोजन में लहसुन और प्याज को शामिल करें क्योंकि इनमें प्राकृतिक जीवाणुरोधी और एंटीवायरल गुण होते हैं। ये तत्व आम संक्रमणों से बचाने में मदद करते हैं, विशेष रूप से श्वसन संक्रमण से जो बरसात के मौसम में अधिक प्रचलित होते हैं। इन्हें अपने आहार में शामिल करने से न केवल स्वाद बढ़ता है बल्कि आपके भोजन का पोषण मूल्य भी बढ़ता है।

8. सूप और स्टू: विभिन्न प्रकार की सब्जियों, फलियों और कम वसा वाले मांस का उपयोग करके पौष्टिक सूप और स्टू तैयार करें। ये व्यंजन न केवल आरामदायक और गर्म हैं बल्कि आवश्यक पोषक तत्व भी प्रदान करते हैं। गाजर, पालक और मशरूम जैसी सब्जियाँ विटामिन और खनिज प्रदान करती हैं, जबकि दाल और बीन्स जैसी फलियाँ प्रोटीन और फाइबर प्रदान करती हैं। चिकन या टर्की जैसे दुबला मांस अतिरिक्त प्रोटीन को बढ़ावा दे सकता है। सूप और स्टू आपको बरसात के मौसम में तृप्त, हाइड्रेटेड और पोषित रखने में मदद करते हैं।

9. स्ट्रीट फूड से बचें: खाद्य जनित बीमारियों के खतरे को कम करने के लिए बरसात के मौसम में स्ट्रीट फूड का सेवन कम से कम करें। बरसात का मौसम बैक्टीरिया और फंगल के विकास के लिए अनुकूल परिस्थितियाँ पैदा कर सकता है, जिससे स्ट्रीट फूड के दूषित होने का खतरा बढ़ जाता है। खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने और पाचन समस्याओं को रोकने के लिए घर का बना भोजन या विश्वसनीय स्रोतों से भोजन का विकल्प चुनें।

10. उचित भोजन भंडारण: खराब होने वाले और खाद्य संदूषण को रोकने के लिए खराब होने वाले खाद्य पदार्थों का उचित भंडारण सुनिश्चित करें। बरसात के मौसम में नमी बढ़ने के कारण खाने-पीने की चीजों को अगर सही तरीके से स्टोर न किया जाए तो वे जल्दी खराब हो सकती हैं। रेफ्रिजरेटर में बचे हुए खाने, फलों और सब्जियों को स्टोर करने के लिए एयरटाइट कंटेनर का उपयोग करें। यह उनकी ताजगी बनाए रखने और हानिकारक बैक्टीरिया के विकास को रोकने में मदद करता है। भोजन की गुणवत्ता बनाए रखने और खाद्य जनित बीमारियों के जोखिम को कम करने के लिए उचित खाद्य भंडारण प्रथाएं आवश्यक हैं।

इसके बाद, फिट रहने के लिए अपने स्वस्थ आहार और दिनचर्या पर नज़र रखें और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि अपने जीवन के हर मौसम में लंबे समय तक जीने के लिए फिट महसूस करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *